Kota Factory Spoiler Alert: कोटा से जीतू भैया की विदाई कर देगी इमोशनल, आपके साथ रह जाएंगे सीरीज के ये पल

0
Kota Factory Spoiler Alert: कोटा से जीतू भैया की विदाई कर देगी इमोशनल, आपके साथ रह जाएंगे सीरीज के ये पल

कोटा फैक्ट्री सीजन 3 नेटफ्लिक्स पर रिलीज हो गया है। हर सीजन की तरह ये सीजन भी आपके दिल को छू जाएगा। कोटा फैक्ट्री का सीजन 3 आपको बहुत सी चीजें सोचने पर मजबूर कर देगा। इस सीजन में आप दोस्ती देखेंगे, ईर्ष्या देखेंगे और बच्चों को जो सवाल सबसे ज्यादा परेशान करता है उसपर बात होती देखेंगे। कोटा फैक्ट्री सीजन 3 सीरीज एजुकेशन पॉलिसी पर भी बात करती नजर आएगी। 

जीतू भैया और सर के बीच जितेंद्र की लड़ाई

कोटा फैक्ट्री का सबसे पसंदीदा किरदार जीतू भैया का है। जिस तरह जीतू भैया अपने स्टूडेंट्स की कनेक्ट करते हैं, हर स्टूडेंट चाहता है कि उनकी लाइफ में भी एक जीतू भैया हों। हालांकि, इस सीजन में जीतू भैया खुद बेहद परेशानियों में उलझे नजर आएंगे। इस सीजन में जीतू भैया इस सवाल के बीच उलझे नजर आएंगे कि वो बच्चों के लिए जीतू सर बनें या भैया। 

कोटा फैक्ट्री सीजन 2 में आपने देखा था कि एक स्टूडेंट ने हताश होकर सुसाइड कर लिया था। इस सीजन में आप देखेंगे कि जीतू भैया अभी भी उस घटना से उभर नहीं पाए हैं। जीतू भैया उस घटना से इतने प्रभावित होते हैं कि वो लोगों से दूरी बना लेते हैं। जीतू भैया के डिप्रेशन फेज को जिस तरह उनके घर की दीवारों से जोड़ कर दिखाया है, वो वाकई तारीफ के काबिल है। 

बच्चों को गाइड करने वाले जीतू भैया इस बार खुद अपने सवालों के जवाब तलाशते नजर आएंगे। अपनी हालत को सुधारने के लिए जीतू भैया मेंटल हेल्थ थेरेपिस्ट की मदद लेते नजर आएंगे।

इस सीजन में कुछ ऐसे सीन्स और छोटे-छोटे पल हैं जो आपको इमोशनल कर जाएंगे। आप एक सीन में देखेंगे कि कैसे जीतू भैया बच्चों के सबसे बड़े सवाल, सेटल कब होंगे?’ का जवाब भी उन्हें देंगे। 

ईर्ष्या पर होगी बात? 

इंसानी स्वभाव होता है कि जब वो किसी को अपने से बेहतर करते देखता है तो सामने वाले से उसे ईर्ष्या हो जाती है। इस सीजन में आप वो भी देखेंगे। वैभव (म्यूर मोरे)  अपने कजिन को कोटा बुलाता है जो अभी आईपीएल ट्रायल्स देकर आया है। उसके कोटा आने के बाद वैभव के दोस्त उसके भाई से इस तरह कनेक्ट होने लगते हैं कि वैभव को ईर्ष्या होने लगती है। वहीं, जब उसके भाई का सिलेक्शन आईपीएल के लिए हो जाता है तब वैभव की ईर्ष्या खुलकर बाहर आती है। तब जीतू भैया बच्चों के गाइड बनकर उन्हें समझाते हैं कि किसी की भी जर्नी आसान नहीं होती। अपने एम को अचीव करने के लिए हर किसी को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। अगर कोई अपना एम अचीव कर लेता है तो हमें उसका जश्न मनाना चाहिए। 

कोटा में बालमुकुन्द मीना को होगी आर्थिक तंगी

बालमुकुन्द मीना (रंजन राज) की जो समस्या इस सीरीज में दिखाई गई है उससे शायद गांव से आने वाले कई बच्चे कनेक्ट कर पाएंगे। उसकी परेशानियां आपके दिल को भी सोचने पर मजबूर कर देंगी। गांव में सूखा पड़ने के कारण बालमुकुंद के माता-पिता उसे पैसे नहीं भिजवा पाते हैं। बालमुकुंद इस परेशानी से अकेले जूझता नजर आएगा। स्वाभिमान के कारण वो अपने दोस्तों को अपनी परेशानी नहीं बताता, लेकिन जब लाइफ में सच्चे दोस्त होते हैं तो उन्हें खुद ही दोस्त की हालत की खबर हो जाती है। हालांकि, बालमुकुन्द दोस्तों से पैसों की मदद लेने को मना करता है। 

पैसों की आर्थिक तंगी से बचने के लिए बालमुकुंद ट्यूशन पढ़ाना शुरू करेगा। ऐसे में एक बार फिर जीतू भैया उसे गाइड करने का रोल निभाएंगे। वो समझाएंगे कि जरूरत के वक्त दोस्तों से मदद लेने में कुछ गलत नहीं है। वो बताएंगे कि कैसे खुद को फोकस रख कर पढ़ाई करना जरूरी है। आज की परेशानी के लिए आप आनेवाला कल दांव पर नहीं लगा सकते। बालमुकुंद की परेशानी और उसकी मेहनत आपको जरूर इमोशनल कर देगी। 

जब मस्तमौला उदय को होगा गलती का एहसास
उदय गुप्ता (आलम खान) का किरदार ऐसा लिखा गया है जो हर वक्त मस्ती में रहता है। कोटा के अन्य बच्चों की तरह वो स्ट्रेस नहीं लेता है, लेकिन इस सीजन में उसके जीवन में जो घटना घटेगी वो आपकी आंखें जरूर नम कर देगी। इस सीजन में आप देखेंगे कि उदय गुप्ता का एक्सीडेंट हो जाएगा और उसके मम्मी-पापा कोटा आएंगे। शराब पीने की वजह से उसका एक्सीडेंट होगा। ऐसे में आप देखेंगे कि उदय गुप्ता को अपने मां-बाप का भरोसा तोड़ने का गिल्ट होगा। वो उसे कोटा से वापस ले जाने की बात करेंगे। उदय और उसकी मां के बीच की बातचीत आपको इमोशनल कर देगी। 

जीतू भैया नहीं उदय की मां को समझाएंगी पूजा दीदी समझाएंगी 

इस बार शो में पूजा दीदी (तिलोत्तमा शोम) भी दर्शकों का दिल जीत लेंगी। जीतू भैया की तरह ही पूजा दीदी भी बच्चों को समझती हैं। पूजा दीदी का किरदार आपको समझाएगा कि कैसे बच्चों को अपनी नजरों के सामने रखकर ठीक नहीं किया जा सकता है। पूजा दीदी और उदय की मां के बीच हुई बातचीत आपको सोचने पर जरूर मजबूर कर देगी। आप इस बात को भी सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि कैसे मां-बाप अपने बच्चों के बेहतर फ्यूचर के लिए हर कोशिश करते हैं और क्या होता है जब मां-बाप का ये भरोसा टूटता है। 

कोटा को लेकर पूजा दीदा का ये डायलोग भी शायद आपके जहन में रह जाए। सीरीज में वो कहती नजर आएंगी- कोटा फैक्ट्री बन चुका है। जहां पहले धीरे-धीरे तराशकर बच्चों को काबिल बनाया जाता था, वहां अब मास प्रोडक्शन लग गई है। 

जीतू भैया का फेयरवेल

सीजन के अंत तक आप देखेंगे कि जीतू भैया अपने सवाल का जवाब ढूंढ लेंगे। वो समझ पाएंगे कि उन्हें लाइफ में आगे क्या करना है। जीतू भैया कोटा छोड़ने का फैसला लेंगे। शो के अंत में जीतू भैया की कोटा से विदाई यकीनन आपकी आंखें नम कर देगी। जीतू भैया को बच्चे तोहफे और आंखों में आंसू के साथ विदा करेंगे।

वहीं, शो के अंत में आप उन कुछ सवालों को भी समझ पाएंगे जो कोटा में पढ़ रहे बच्चों के मन में तब उठते हैं जब उनका सिलेक्शन नहीं हो पाता। बहुत मेहनत के बाद भी वैभव का सिलेक्शन JEE में नहीं हो पाता। उसका एम जब टूटता है तो जीतू भैया उसे समझाते नजर आएंगे। उस वक्त वैभव के जो सवाल होते हैं वो शायद कई बच्चों के मन में आते होंगे। 

Source : www.livehindustan.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.